सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 में उत्तरी कर्नाटक में शिगांव में हुआ था. Sudha Murty Phone Number, Bio, Email ID, Address and Contact Details. आर. She has been enthusiastic about assisting individuals in flood-affected areas also.

परिधी (कन्नड) Privacy Policy Sudha Murthy is a bountiful fiction writer in Kannada as well English. उन्होंने ‘डालर बहू ‘नाम से कन्नड़ भाषा में एक पुस्तक लिखी थी, कन्नड़ भाषा में जिसका अर्थ होता है ’डालर पुत्र-वधू’ बाद में ऐसे अंग्रेजी में अनूदित किया गया और ऐसे ‘डालर बहू’ शीर्षक दिया गया. Copyright.

She’s also a member of the health care initiatives of the Gates Foundations. The Chairman of TELCO noted her dilemma and called her for a special interview. © 2020 Digibrity.com | All rights reserved. नारायणमूर्ति की पत्नी एवं प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता हैं। कुछ लोग महान् लक्ष्यों को हासिल करने का मकसद लेकर जिंदगी जीते हैं लेकिन सुधा मूर्ति एक ऐसी शख्सियत हैं जो जिंदगी को सादगी और दानिशमंदी के साथ जीने में यकीन रखती हैं और यही ‘सादगी और मन की उदारता’ उन्हें इस मुकाम पर ले आयी है जिसे देखने के लिए लोगों को आसमान तक नजरें बुलंद करनी पड़ती हैं। उद्योग जगत में सफलता की नयी कहानी लिखने वाली आई टी कंपनी इन्फोसिस के इन्फोसिस फाउंडेशन की अध्यक्षा सुधा मूर्ति की जिंदगी मेहनत और मशक्कत की अद्भुत कहानी है।. After Sudha had sat for two-and-a-half hours answering questions, one of the panelists told her that the reason TELCO did not employ women engineers was that on getting married, they left their jobs to live with their husbands. शिक्षा समाप्ति के बाद सुधा मूर्ति ने सबसे पहले ग्रेजुएट प्रशिक्षु के तौर पर टाटा कंपनी और बाद में दी वालचंद ग्रुप आफ इंडस्ट्रीज में काम किया। कम्प्यूटर साइंस के क्षेत्र में उन्हें महिलाओं के लिए महारानी लक्ष्मी अम्मानी कालेज की स्थापना करने का श्रेय जाता है जो आज बेंगलूर यूनिवर्सिटी के कम्प्यूटर साइंस विभाग के तहत बेहद प्रतिष्ठित कालेज का दर्जा रखता है। महिला अधिकारों की समानता के लिए भी सुधा मूर्ति ने बेहद काम किया है। इस संबंध में एक घटना उल्लेखनीय है। उस जमाने में टाटा मोटर्स में केवल पुरुषों को भर्ती करने की नीति थी जिसे लेकर सुधा मूर्ति ने जेआरडी टाटा को एक पोस्टकार्ड भेजा। इसका असर यह हुआ कि टाटा मोटर्स ने उन्हें विशेष साक्षात्कार के लिए बुलाया और वह टाटा मोटर्स (तत्कालीन टेल्को) में चयनित होने वाली पहली महिला इंजीनियर बनीं। सुधा मूर्ति एक बेहद प्रभावशाली लेखिका भी हैं और उन्होंने आम आदमी की पीड़ाओं को अभिव्यक्ति देते हुए आठ उपन्यास भी लिखे हैं

थैलीभर गोष्टी She worked with many organizations for the sake of the common man. इस शिकायत के कारण ‘टाटा मोटर्स’ के अधिकारीयों ने उन्हें इस विषय पर लंबी चर्चा के लिए बुलाया, सुधा ने ‘टेल्को’ में एक ग्रेजुएट ट्रेनी के रूप में अपना कैरियर आरंभ किया, सुधाजी जब पुणे मै जॉब कर रही थी तो उनकी मुलाकात नारायण मूर्ती से हुई और बादमे उन दोनोंने शादी भी की । सुधाजी और नारायणजी मूर्ति ( Sudha And Narayan Murthy) को 2 बच्चे है, एक लड़का और एक लड़की । नारायण मूर्ति जी अपना खुद का कारोबार करना चाहते थे लेकिन पैसे उनके पास नहीं थे । तो उन्होंने उनकी यह सोच सुधा जीके सामने रखी तो सुधाजीने उनके यह सोच को बढ़ावा देते हुये बिज़नस शुरू करने को कहा और उनके पास जो उनकी जमा कुंजी थी 10000 वो नारायण मूर्ती को दी । नारायण मूर्ति ने उस छोटी सी प्रारंभिक राशि से ‘ इंफोसिस ‘ (Infosys) की शुरूआत की , जो सुधाजी ने दुःख-विपत्ति के समय के लिए बचाकर रखी थी । नारायण मूर्ति बड़े गर्व से बताते हैं कि यह उसी की बची हुई धनराशी थी, जो बंगलोर में ‘ इंफोसिस ‘ स्थापित करने में सहायक बनी ।, प्रत्येक भूमिका में सफलता का सार सदैव एक ही रहा है, सुधा कहती हैं – “आप जो भी काम करें, अच्छी तरह से करें.